लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंदों की मदद करके सुर्खियों में आए अभिनेता सोनू सूद पर बृह्नमुंबई नगर निगम (BMC) लगातार सख्त रुख अपनाए हुए है।

लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंदों की मदद करके सुर्खियों में आए अभिनेता सोनू सूद पर बृह्नमुंबई नगर निगम (BMC) लगातार सख्त रुख अपनाए हुए है। बॉम्बे हाईकोर्ट में दायर एक हलफनामे में बीएमसी ने कहा है कि सोनू सूद एक आदतन अपराधी हैं, जो पहले दो बार तोड़फोड़ की कार्रवाई के बावजूद जुहू में एक रिहायशी इमारत में अवैध निर्माण करवाते रहे हैं।

अवैध निर्माण से कमाना चाहते हैं पैसा
BMC ने अपने हलफनामे में कहा कि पिटीशनर (सोनू सूद) आदतन अपराधी है और गैरकानूनी तरीके से पैसा कमाना चाहते हैं। उन्होंने लाइसेंस विभाग की अनुमति बगैर ध्वस्त किए गए हिस्से का फिर एक बार अवैध निर्माण कराया, ताकि इसे होटल के रूप में इस्तेमाल किया जा सके।

शरद पवार से मिले सोनू सूद
इस विवाद के बीच मंगलवार शाम को अभिनेता सोनू ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) प्रमुख शरद पवार से मुलाकात की। दोनों के बीच करीब आधे घंटे तक बातचीत हुई। सूत्रों के मुताबिक, सोनू ने पवार से कहा कि उन्होंने कोई अवैध निर्माण नहीं किया है। कुछ लोग उन्हें बदनाम करना चाहते हैं।

सोनू सूद NCP चीफ शरद पवार से मिले। सूत्रों के मुताबिक, सोनू ने पवार को बताया कि उन्हें बदनाम करना चाहते हैं।
सोनू सूद NCP चीफ शरद पवार से मिले। सूत्रों के मुताबिक, सोनू ने पवार को बताया कि उन्हें बदनाम करना चाहते हैं।

पिछले साल पहली बार जारी हुआ नोटिस
BMC ने पिछले साल अक्टूबर में साेनू को नोटिस जारी किया था। उन्होंने इस नोटिस को दिसंबर में दीवानी अदालत में चुनौती दी थी, लेकिन उनकी याचिका खारिज हो गई। इसके बाद उन्होंने बॉम्बे हाईकोर्ट का रुख किया। इस पर हाईकोर्ट ने BMC को हलफनामा दाखिल करने को कहा था।

सोनू पर रिहायशी इमारत को होटल बनाने का आरोप
BMC ने सोनू के खिलाफ जुहू पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है। इसमें कहा गया है कि एक्टर ने मुंबई में AB नायर रोड पर शक्ति सागर बिल्डिंग को बिना अनुमति होटल बना दिया। यह छह मंजिला रिहायशी इमारत है और उसका कारोबारी इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। यह भी आरोप है कि सोनू नोटिस दिए जाने के बाद भी इस बिल्डिंग में लगातार अवैध निर्माण कराते रहे।