सर्दी-खांसी छिपाकर लगवा रहे टीका, इसलिए संक्रमण ज्यादा; डाॅक्टरों की सलाह: गले में इंफेक्शन हो तो टीका नहीं लगवाएं, पहले टेस्ट कराएं

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच रायपुर में वैक्सीन लगवाने के बाद पॉजिटिव होने के मामले भी बढ़ रहे हैं। प्रदेश कोरोना कोर कमेटी के सदस्य डॉ. आरके पंडा के मुताबिक टीका लगवाने से पहले अगर किसी तरह का सर्दी, खांसी, बुखार, डायरिया या कोरोना का कोई लक्षण हैं तो टीका नहीं लगवाना चािहए। वहीं नेहरू मेडिकल कॉलेज के वैक्सीनेशन नोडल डॉ. ओंकार खंडवाल के अनुसार वैक्सिनेशन बूथ में जल्दबाजी से बचना चाहिए, क्योंकि भीड़ में संक्रमण का डर रहता है। इसलिए अपनी बारी का इंतजार करें। ऐसे में कोरोना वैक्सीन से संबंधित सभी सवालों के जवाब, जो आपके लिए जरूरी है।

टीके लगवाने से पहले, वह जानकारियां जो आपके लिए जरूरी हैं; भास्कर एक्सपर्ट: डॉ. स्मित श्रीवास्तव

  • टीका लगवाने से पहले अच्छी तरह से भोजन करिए और इतना पानी पी लीजिए कि प्यास न लगे।
  • वे जिन्हें वैक्सीन की किसी भी सामग्री से एलर्जी जैसे रिएक्शन हैं, उन्हें वैक्सीन नहीं लेनी चाहिए।
  • कोविशील्ड’ और को-वैक्सीन सभी स्वीकृत टीके लगवाए जा सकते हैं। इनमें दिक्कत नहीं है।
  • टीके के बाद भी संक्रमित हो सकते हैं। लेकिन ऐसे लोगों में वायरस से ज्यादा नुकसान नहीं होता।
  • अगर कोरोना है तो ऐसे लोगों को ठीक होने के 8-12 सप्ताह के बाद ही टीका लगवाना चाहिए।
  • किसी ने कोरोना​​ के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी ली है, तो उसे भी इतना ही इंतजार करना होगा।
  • बीपी, शुगर, किडनी, हार्ट डिसीज व डासलिसिस चल रहा हो, उनके लिए भी वैक्सीन सुरक्षित है।
  • वैक्सीन खाद्य एलर्जी, ड्रग एलर्जी, अस्थमा, एलर्जी राइनाइटिस और डर्मेटाइटिस वालों के लिए सुरक्षित।
  • टीके के बाद बुखार, दर्द, चक्कर, सिरदर्द सामान्य लक्षण हैं। जरूरी हो तो पैरासिटामाॅल ले सकते हैं।

आज और आएंगे छह लाख टीके
राजधानी में शुक्रवार को वैक्सीन निर्माता एजेंसियों से मुंबई और हैदराबाद के जरिए 6 लाख वैक्सीन की सप्लाई मिलेगी। इसमें पुणे से 4 लाख कोविशील्ड और हैदराबाद से 2 लाख को-वैक्सीन पहुंचेंगे। इसके पहले कोवैक्सीन के डोज दो बार आए, लेकिन संख्या कम थी। स्टेट वैक्सीन स्टोर में कल आने वाले टीके कल ही जिलों में भेज दिए जाएंगे। एनएचएम डायरेक्टर डॉ. प्रियंका शुक्ला के मुताबिक प्रदेश में 10 प्रतिशत से अधिक आबादी को टीके लग चुके हैं। 14 अप्रैल तक प्रदेश में 46 लाख 76 हजार 321 टीके लगे हैं।